आधार कार्ड क्या है?

भारत सरकार द्वारा भारत के प्रत्येक नागरिक की पहचान को पुख्ता करने के लिए 2009 में भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) (UIDAI) का गठन किया गया था। यूआईडीएआई (UIDAI) का कार्य 12 अंकों की विशिष्ट पहचान प्रत्येक नागरिक को उपलब्ध करवाना है। 12 अंकों की इस विशिष्ट पहचान को ही आधार कार्ड कहा गया है। आधार कार्ड के माध्यम से भारत सरकार नागरिकों की पहचान को डाटाबेस द्वारा अपने रिकार्ड में सुरक्षित रखेगी। इस पोर्टल पर आप को आधार कार्ड के स्टेटस, ई आधार डाउनलोड करने, आधार सेंटर, आधार लिंक करने तथे अन्य विषयों पर जानकारी दी गयी है।

सरकार द्वारा प्रद्त्त सेवाओं में इस डाटाबेस के माध्यम से नागरिक की पहचान को प्रमाणित किया जा सकेगा। आधार कार्ड के माध्यम से भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण नागरिकों के विषय में विभिन्न प्रकार की जानकारी भी हासिल कर सकेगा। जैसे उम्र, शिक्षा, व्यवसाय आदि। सरकार इन जानकारियों के माध्यम से योजनाएं व विभिन्न प्रकार की सेवाएं नागरिकों को देने में सक्षम हो पाएगी।

आधार कार्ड – Aadhar Card Hindi Website
आधार कार्ड – Aadhar Card Hindi Website

आधार कार्ड के बारे में

आधार कार्ड (Aadhar Card) एक बायोमिट्रिक एवं डेमोग्राफिक विधि से संकलित की गई जानकारियां है, जिसके आधार पर नागरिक के आधार कार्ड को बनाया जाता है। आधार कार्ड को बहु उपयोगी बनाने के लिए इस भारत सरकार ने इसे बैंक अकाऊंट, गैस कनैक्शन आदि से जोड़ा है, ताकि नागरिक की पहचान को लेकर आने वाली दिक्कतों को पूर्णतया समाप्त किया जा सके। भारत सरकार की आधार कार्ड बनाने की योजना से कई कार्यों में आसानी होगी और सरकार भी बॉयोमैट्रिक सिस्टम से नागरिक की पहचान को पुख्ता कर सकेगी।

आधार कार्ड क्यों जरूरी?

वैसे तो भारत सरकार ने देश के नागरिकों की पहचान के लिए कई तरह के प्रमाण पहले से ही दिए हुए है, जैसे राशन कार्ड, वोटर पहचान पत्र, ड्राईविंग लाईसेंस, पैन कार्ड आदि। फिर भी आधार कार्ड की जरूरत बेहद उपयोगी साबित हो रही है। भारत सरकार की अधिसूचना के अनुसार आधार कार्ड बनवाना स्वैच्छिक है, अनिवार्य नही। इसके बावजूद भारत सरकार व राज्य सरकारों ने अपनी योजनाओं का लाभ देने के लिए आधार कार्ड की अनिवार्यता को प्राथमिकता दी। जैसे गैस सब्सिडी, बैंक अकांऊट व अन्य प्रकार की योजनाओं में आधार कार्ड को अनिवार्य डोक्यूमैंट रखा गया है, इसलिए इन योजनाओं का लाभ लेने के लिए नागरिकों को आधार कार्ड बनवाना जरूरी है। आधार कार्ड को गैस कनैक्शन, बैंक अकांऊट आदि से लिंक करने के लिए पेश किया जाना जरूरी है, इसलिए आधार कार्ड बनवाना जरूरी माना गया है।

आधार कार्ड को लेकर न्यायालयों के आदेश

आधार कार्ड की अनिवार्यता को लेकर विवाद रहा है और इसको लेकर विभिन्न कोर्टों में याचिकाएं लगाई गई। ऐसी ही एक याचिका पर 16 मार्च 2013 सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया और आधार कार्ड की अनिवार्यता को गैर जरूरी बताया। विभिन्न राज्यों में भी आधार कार्ड को लेकर कई बार याचिका लगी। वर्ष 2015 में पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने आधार कार्ड को अनिवार्य किए जाने से इन्कार दिया। इसके बावजूद सरकारें अपनी योजनाओं के लाभ देेेने के लिए आधार कार्ड को जरूरी मानती है और नागरिकों को आधार कार्ड बनवाने की राय दे रही है। सरकारों के अनुसार आधार कार्ड को लिंक किये जाने बगैर सब्सिडी व बैंक सेवाओं आदि का लाभ दिया जाना संभव नही होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *