आधार फॉर्म भरें – ऑफलाइन / ऑनलाइन

आधार फॉर्म भरें- ऑफलाइन/ ऑनलाइन

Fill Aadhar Card Enrollment Form Online/ Offline

नए आधार कार्ड के लिए आवेदन हेतू फार्म डाऊनलोड करने तथा उसे भरने की प्रक्रिया को लेकर बहुत से यूजर्स के सवाल है। ई-फार्म को लेकर सबसे ज्यादा पूछा जाता है। आधार कार्ड को लेकर फार्म डाऊनलोड करना सबसे ज्यादा जरूरी और अहम है। आधार कार्ड बनवाने की यह सबसे प्रथम गतिविधि है और इस फार्म के माध्यम से आधार कार्ड बनाना आसान रहता है। इसलिए ई-डाऊनलोड प्रक्रिया से एप्लीकेशन फार्म प्राप्त किया जा सकता है।

इससे जुड़ी जानकारियों को इस लेख में विस्तार से बताया जा रहा है, ताकि इंटरनेट पर ई-आधार कार्ड एपलीकेशन फार्म प्राप्त किया जा सके। नया आधार कार्ड बनवाने के लिए सबसे पहले उपलब्घ पोर्टल, जो आधार सेवाएं प्रदत्त करवाता हो, से निम्न प्रक्रिया के तहत स्टैप -बाय-स्टैप क्लिक करें-

आधार कार्ड के बारे में विस्तार से जानें>>

डाऊनलोड एप्लीकेशन फार्म के ऑप्शन पर क्लिक करें-

डाऊनलोड होने के बाद आवेदक प्रिंट आऊट के ऑप्शन पर क्लिक कर करेगा और आवेदक को आधार कार्ड एप्लीकेशन फार्म प्राप्त होगा।

  1. फार्म उपलब्ध होने पर कालम दर कालम संदर्भित विषय वस्तु भरें।
  2. कॉलम के फील्ड 2 में राष्ट्रीय जनगणना रजिस्टर की रसीद अथवा टिन नंबर भरें।
  3. कॉलम के 3 नंबर रिक्त स्थान में नाम दर्ज करें।
  4. कॉलम के 4 नंबर रिक्त स्थान में जन्मतिथि का विवरण दें।
  5. कॉलम के 6 नंबर रिक्त स्थान में पता संबधित विवरण करें।
  6. कॉलम के 7 नंबर रिक्त स्थान में आवेदक के साथ आपके संबंध के विषय में विवरण रखें। जो कि 5 साल से कम उम्र के आवेदक के संदर्भ में होगा।
  7. इसी प्रकार 9 नंबर के रिक्त स्थान में बैंक अकाऊंट के विषय में पूर्ण जानकारी भरें।
  8. तत्पश्चात 10 नंबर के रिक्त स्थान की जगह पर एप्लीकेशन के साथ प्रूफ के तौर पर दिए गए कागजात का विवरण दें। अर्थात आईडी प्रूफ के बारे में लिखें।

इन सभी कॉलमों को पूरा करने के बाद आवेदक को इनरोलमेंट केंद्रों पर जाना होगा और आवेदक को आधार कार्ड बनवाने के लिए औपचारिकताओं से गुजरना होगा। जिसमें आवेदक की अंगुलियों के निशान अथवा इंप्रेशन, आंखों की पुतलियों की स्केनिंग, तथा फोटो खिंचवाने के क्रियाक्लाप से गुजरना होगा।

आवेदक को इसके बाद आधार कार्ड का इनरोलमेंट उपलब्ध होगा और वह अगले 60 दिनों में आधार कार्ड को ई-डाऊनलोड प्रक्रिया से प्राप्त कर सकेगा। बॉयोमैट्रिक सिस्टम से गुजरने के बाद आवेदनकर्ता का डाटाबेस सरकार के पास होगा ओर सरकार इस डाटाबेस के आधार पर भविष्य की कई योजनओं को लाभ दे सकेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *